शिमला की जानकारी हिंदी

शिमला की जानकारी हिंदी, Shimla Ki Jankari Hindi

मेरे प्यारे दोस्तों में आपका दोस्त मनोज कुमार आज फिर से भारत में घूमने के लिए एक बेहतरीन स्थान की जानकारी लेकर आया हु. जिसे हम शिमला के नाम से जानते है. में शिमला खुद घूमकर आया हु. ये बहुत ही सुंदर स्थान है भारत में. हम सबको यहाँ पर कम से कम लाइफ में एक बार जरूर जाना चाहिए. तो जानिए क्या मशहूर है यहाँ पर घूमने के लिए मेरी जुबानी.

आज हम आपको शिमला के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देंगे. क्योकि शिमला में हर साल बहुत अधिक मात्रा में सैलानी आते है. सैलानियों में अब धीरे धीरे विदेशी पर्यटक भी बढ़ते जा रहे है. शिमला भारत में एक गर्मी की छुट्टी के लिए एक शानदार लोकप्रिय पर्यटक अस्थल है. जिन लोगो में कूट कूट कर सहस भरा हुआ है , शिमला उन्ही लोगो क लिए है.

क्योकि शिमला में ट्राउट ट्रेकिंग और रॉक क्लाइम्बिंग जैसी गतिविधिया होती है, जो की एक साहसी इंसान ही कर सकता है. यहाँ पर रिवर यानि की नदी राफ्टिंग भी कराई जाती है. यहाँ का एक प्रसिद्ध खेल है जिसे हम एंगलिंग कहते है. शिमला वैसे तो फॅमिली के घूमने का स्पॉट है, लेकिन यहाँ पर ज्यादातर कपल लोग ही आते है. गर्मियों के मौसम में एक शानदार छुट्टियों को मनाने वाला स्थान शिमला ही है.

शिमला घूमने का मौसम Shimla ghumne ka weather

शिमला वाकई एक दिलचस्प हिल स्टेशन है. शिमला घूमे का सबसे अच्छा मौसम होता है अगस्त के महीने में, क्योकि इस समय आपको होटलो में ठहरने के लिए बड़ी ही आसानी से बुकिंग मिल सकती है. क्योकि इस दौरान ज्यादातर लोग अपने परिवार में बिजी रहते है, किसी के बच्चो का स्कूल खुल जाता है, तो किसी के ऑफिस. तो अच्छा महीना यही है.

शिमला में कहाँ कहाँ घूमे Shimla me kaha kaha ghume

शिमला में आप बहुत कुछ देख सकते हैं. यहां की मॉल रोड पर शॉपिंग के अलावा, द क्रिस्ट चर्च, जाखू मंदिर, तारा देवी टेंपल, संकटमोचन टेंपल, कामना देवी मंदिर, काली बाड़ी मंदिर जा सकते हैं. हिमाचल स्टेट म्युज़ियम ऐंड लाइब्रेरी, बॉटेनिकल गार्डन, एल्सियम हिल्स वगैरह देखने लायक जगहें हैं. शिमला से बाहर निकलना चाहें, तो आप मशोबरा, नल्देहड़ा, कुफ्री, तत्तापानी, चहल जा सकते हैं. लेकिन बेहतर छुट्टियों के लिए आपको यही सलाह है कि अपने टूर पर पूरी प्लानिंग और अडवांस बुकिंग के साथ ही निकलें.

शिमला में घूमने के लिए पैकिंग Shimla me ghumne ke liye packing

शिमला में घूमने के लिए आपको हलकी पैकिंग करनी चाहिए. लेकिन स्विम सूट, बीच टॉवल, लॉन्जरी, शॉर्ट्स, पाजामा, शूज, सन स्क्रीन, लिप बाम, बग स्प्रे वगैरह जरूर अपने साथ रखें. ईजी ब्रीदिंग के लिए कंफर्टेबल कपड़े रखें. रात में बीच पर वॉक करने के लिए जैकेट और लूज फिटिंग वाली लिनन लाउंज पैंट्स रखें. दो या तीन स्विमिंग कॉस्ट्यूम के साथ कुछ सरोंग भी रखें. ये बीच पर आपको ट्रेंडी लुक देंगे. वेस्ट, कॉटन की स्लीवलेस शर्ट्स, कैप्रीज, शॉर्ट्स, स्कर्ट्स, लूज लिनन पैंट्स, कॉटन की लाइट ट्रैक पैंट्स वगैरह आपके साथ जरूर होने चाहिए.

ध्यान रखें कि आपकी ड्रेसेज ब्राइट और खुशनुमा अहसास वाली होनी चाहिए. फुटवेयर्स में फ्लिप-फ्लॉप सही रहेंगे. एसेसरीज़ में वॉटर प्रूफ वॉच, बड़ा हैट और अच्छे सनग्लासेज जरूरी हैं. अपना सामान संभालने के लिए बीच बैग कैरी करें. पैसे और कार्ड्स रखने के लिए छोटा पाउच रखना न भूलें. साथ में मिनरल वॉटर, सन ब्लॉक, मॉइश्चराइजर, बॉडी ऑइल और ऐंटि-टैनिंग लोशन रखें. बीच पर रिलैक्स करने के दौरान अच्छी किताबें और आईपॉड बहुत काम आएंगे. सामान कम से कम और कंफर्टेबल पैकिंग में रखें और शॉपिंग करने की बजाय दूसरी ऐक्टिविटीज के जरिए खूब इन्जॉय करें.

शिमला के पर्यटन स्थल Tourist place of shimla

शिमला में घूमने के लिए आपको कुछ पर्यटन स्थल बताये जा रहे है. जो की इस प्रकार से है.

1. दी शिमला स्टेट मियूजियम लइब्रेरी

इसे हिमाचल प्रदेश मियूजियम लइब्रेरी भी कहते है. ये एक माउंट की चोटी पर स्थित है. इसे सन 1974 में बनाया गया था. ब्रिटिश वास्तु कला और विशाल मैदान यहां के प्रमुख आकर्षण केंद्र है. यहाँ पर विभिन्न पेंटिंग , हस्तकला का सामान , कलाकृति , मुर्तिया मौजूद है. कुछ तो इसे 100 साल से भी अधिक पुरानी मानते है.

2. समर हिल

शिमला में घूमने के लिए ये सबसे बेस्ट प्लेस है, इसे पॉटर हिल भी कहते है. यह एक छोटा सा टाउन है, जो शिमला के मशहूर रिज़ से लगभग पांच किलोमीटर दूर है. ये समुद्र तल से लगभग 1280 मीटर ऊंचाई पर स्थित है. यह चारों और हरियाली ही हरियाली है. यहाँ ऊपर से बहुत ही मनमोहक दृश्य देखने को मिलता है. शिमला में सात हिल स्टेशन है. जो शिमला में अत्यधिक फेमस है. समर हिल उनमे से एक ही है.

3. क्राइस्ट चर्च

ये चर्च उत्तर भारत का सबसे पुराना चर्च है. इसे ब्रिटिश सरकार द्वारा 1857 में बनवाया गया था. इसे नव गोथिक शैली में डिजाइन किया गया था. क्राइस्ट चर्च भारत में ब्रिटिश सरकार के लम्बे तक शासन करने के प्रतीक माना जाता है.

4. तारा देवी मंदिर

ये मंदिर समुद्र तल से लगभग 1850 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. ये मंदिर शिमला से लगभग 10-11 किलोमीटर दूर है.

5. कुफरी

ये शिमला से लगभग 20 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. ये समुद्र ताल से लगभग 2620 मीटर ऊंचाई पर है. इसे दी विंटर स्पोर्ट्स कैपिटल भी कहा जाता है. पहले ये नेपाल देश की सीमा के अंतर्गत आता था. यहाँ सर्दियों में विंटर स्पोर्ट्स स्किंग और आइस स्केटिंग का मजा भी उठाया जा सकता है.

6. नालदेहरा

नालदेहरा समुद्र तल से लगभग 2045 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. यहाँ लार्ड कर्जन ने गोल्फ कोर्स का निर्माण किया था. घने हरे भरे पेड़, मनमोहक हरियाली यहाँ के वातावरण में आप हवा की आवाज को साफ़ साफ़ सुन सकते है. यहाँ घुड़सवारी मुख्य आकर्षण का केंद्र होते है.

7. जाखू हिल

जाखू हिल शिमला से लगभग दो किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. शिमला का ये सबसे ऊँचा हिल है. जो समुद्र तल से आठ हज़ार किलोमीटर पर बना हुआ है. शिमला का ये एक मुख्य आकर्षण केंद्र है. प्रकृति के चाहने वालो के लिए ये किसी जन्नत से कम नहीं है. जहा जाखू मंदिर भी है. यहाँ पर हनुमान जी की 108 फिट ऊँची विशाल प्रतिमा है. इधर ऊपर चढ़ना आसान नहीं है. ये एक साहसिक यात्रा है.

8. दी स्कैंडल पॉइंट रिज़

ये स्कैंडल पॉइंट के नाम से फेमस है. जो शिमला शहर के बीचो बीच स्थित है. यहाँ से शिमला की हरियाली, बर्फीली घाटी देखते ही बनती है. बर्फ से ढकी पर्वत श्रृंखला का अदुभुत दृश्य यहाँ से देखने को मिलता है. यहाँ से सनसेट भी अच्छा दीखता है. यहाँ फेमस पुस्तकालय भी है.

9. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ एडवांस स्टडीज

इस ऐतिहासिक धरोहर को ब्रिटिश सर्कार द्वारा 1880-88 क समय बनाया गया था. इसे भारत के प्रेजिडेंट के गर्मी के मौसम में रुकने के लिए बनाया गया था. डॉ राधाकृश्णन के द्वारा इसे 1965 में इंस्टिट्यूट में तब्दील कर दिया गया. यहाँ की दीवारे फायर प्रूफ है.

10. अन्नानादले

इसे तो शिमला के पर्यटन स्थल में शामिल होना ही था. ये रिज़ से लगभग चार किलोमटर दूर स्थित है. ब्रिटिश राज में ये विभिन्न खेल खेलने की मुख्य जगह हुआ करती थी और यहाँ पर पोलो और रेसिंग होती थी. आज के समय में इसे रेसकोर्स को मिनी गोल्फ कोर्फ में बदल दिया है. इसे हेलीपेड के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है.

11. चाडविक फाल

ये शिमला से लगभग 6 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. यहाँ पानी लगभग 1585 मीटर ऊंचाई से गिरता है. ये समर हिल के नजदीक ही स्थित है. यदि आप सेल्फ पद यात्रा के माध्यम से जाते है तो आपको लगभग 50 मिनट तक का समय लग सकता है. इस झरने के चारों और घने हरे भरे पेड़ है. जिनसे इसकी सुंदरता देखते ही बनती है. मानसून के समय यहाँ के पानी का स्तर अत्यधिक बढ़ जाता है. जिस कारण से ये और आकर्षण का केंद्र बनता है.

12. दरानघाटी अभ्यारण्य

ये शिमला से लगभग 155 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. ये १६५ किलोमीटर में फिला हुआ है. ये शिमला के ऊपरी हिस्से में स्थित है.

13. वाइसरिगल लाज और बोटनीकल गार्डन

14. प्रोस्पेक्ट हिल

15. पोटर हिल

16. एलिसम हिल

17. काली बारी मंदिर

18. गुरुद्वारा

19. उल्लास थियेटर

शिमला रेल सफर Shimla rail safar

देश के सबसे लोकप्रिय हिल स्टेशन शिमला को जोड़ती कालका शिमला रेल. नौ नवंबर 1903 से शुरू हुआ कालका-शिमला रेल का सफर 110 सालों के बाद भी अनवरत जारी है. कालका-शिमला रेल को संक्षेप में केएसआर ( कालका शिमला रेल) कहते हैं. कालका शिमला रेल सैलानियों की खास पसंद है. शिमला जाने वाले सैलानी बस के बजाय इस खिलौना ट्रेन से शिमला जाने को प्राथमिकता देते हैं. क्योंकि इस खिलौना ट्रेन का सफर इतना सुहाना है कि जितना मजा शिमला की हसीन वादियों में घूमने में आता है उतना आनंद ये छह घंटे का सफर आपको देता है. संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर घोषित कर रखा है.

कालका रेलवे स्टेशन Kalka railway station

सफर की शुरूआत कालका शहर से होती है. कालका हरियाणा राज्य का रेलवे स्टेशन है जो चंडीगढ़ से थोड़ा आगे है. कालका ब्राड गेज का आखिरी रेलवे स्टेशन है. कालका स्टेशन के ब्राडगेज प्लेटफार्म से ही कालका शिमला छोटी लाइन का प्लेटफार्म जुड़ा हुआ है. अगर आप दिल्ली से हिमालयन क्वीन से सुबह अपना सफर शुरू करते हैं तो दोपहर में कालका से शिमला जाने वाली ट्रेन आपको मिलती है. अगर आप किसी और समय में कालका पहुंचे हैं तो कालका रेलवे स्टेशन के आसपास होटलों में ठहर कर अगले दिन सुबह कालका से शिमला जाने वाली ट्रेनों से आगे का सफऱ कर सकते हैं. तकरीबन 2100 मीटर की ऊंचाई पर स्थित शिमला रेलवे स्टेशन कुछ-कुछ दार्जिलिंग रेलवे स्टेशन से मिलता-जुलता लगता है.

दोनों के एक तरफ ऊंचा शहर तो दूसरी तरफ गहरी घाटी है. कालका-शिमला रेल को संक्षेप में केएसआर कहते हैं. यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर घोषित कर रखा है. ब्रिटिश शासन की ग्रीष्मकालीन राजधानी शिमला को कालका से जोड़ने के लिए 1896 में दिल्ली अंबाला कंपनी को इस रेलमार्ग के निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. समुद्र तल से 656 मीटर की ऊंचाई पर स्थित कालका (हरियाणा) रेलवे स्टेशन को छोड़ने के बाद ट्रेन शिवालिक की पहाड़ियों के घुमावदार रास्ते से गुजरते हुए 2,076 मीटर ऊपर स्थित शिमला तक जाती है.

अंग्रेजों ने इस रेल ट्रैक पर जब काम शुरू किया तो बड़ोग में एक बड़ी पहाड़ी की वजह से ट्रैक को आगे ले जाने में दिक्कतें आने लगीं. एक बार तो हालात यह बन गए कि अंग्रेजों ने इस ट्रैक को शिमला तक पहुंचाने का काम बीच में ही छोड़ने का मन बना लिया. इस वजह से ट्रैक का काम देख रहे कर्नल बड़ोग ने आत्महत्या तक कर ली. उन्हीं के नाम पर आज बड़ोग स्टेशन का नाम रखा गया है.

वर्ल्ड हैरिटेज टॉय ट्रेन World heritage toy-train

1903 से शुरू हुआ कालका-शिमला रेल का सफर 110 साल के बाद भी अनवरत जारी है. शिमला रेलवे स्टेशन बड़ा खूबसूरत और साफ-सुथरा है. स्टेशन अपने आप में रेलवे का म्यूजियम सा लगता है. यहां कालका शिमला रेल के बारे में काफी जानकारी चित्रों में उपलब्ध है. स्टेशन पर अच्छा सा स्टोरेंट भी है. यहां 55 रुपये में स्पेशल थाली का स्वाद लिया जा सकता है. खाने पीने की दरें आपकी जेब के लिए महंगी नहीं है.

सेकेंड क्लास और प्रथम श्रेणी के यात्रियों के लिए अच्छे प्रतीक्षालय बने हैं. स्टेशन पर विश्रामलय भी है. पहले से इसमें ठहरने के लिए भी बुकिंग कराई जा सकती है. शिमला उतरने पर अगर आप भूखे हैं तो यहीं से कुछ पेटपूजा करके ही आगे बढ़ें. क्योंकि आगे कहीं भी जाने के लिए चढ़ाई है. शिमला रेलवे स्टेशन से शहर के दिल यानी मॉल की दूरी महज एक किलोमीटर है. आप टहलते हुए भी जा सकते हैं.

बॉलीवुड में कालका शिमला रेल Bollywood me kalka shimla rail

बॉलीवुड की बात करें तो 1960 में शम्मी कपूर की फिल्म ब्याय फ्रेंड का गाना मुझको अपना बना लो. कालका शिमला रेल पर शूट हुआ था. सन 2000 में आई प्रीति जिंटा की फिल्म क्या कहना में भी कालका-शिमला रेल और उसके कुछ स्टेशनों की छवि देखी जा सकती है.

तो दोस्तों इस तरह से आप शिमला में एक आनदमय सफर की शुरुआत कर सकते है. आशा करते है की आपको हमारे द्वारा दी गयी शिमला की जानकारी अच्छी लगी होगी. धन्यवाद्

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!