ऋषिकेश में घूमने की जंगह

ऋषिकेश में घूमने की जंगह, rishikesh ki jankari hindi

हैलो दोस्तों में आपका दोस्त मनोज कुमार, आज आपके लिए ऋषिकेश के बारे में कुछ जानकरी लेकर आया हु, दरअसल में लास्ट ईयर ऋषिकेश घूमने के लिए गया था और मुझे यहाँ की सुंदरता ने इतना मोह लिया की में हर साल यहाँ पर घूमने के लिए जाना चाहता हु. तो मैंने क्या क्या वहा पर देखा और ऋषिकेश में क्या मशहूर है घूमने के लिए. इन सबकी जानकारी आज में आपको अपनी इस पोस्ट ऋषिकेश की जानकारी में देने जा रहा हु.

भारत में ऋषिकेश घूमने के लिए बहुत ही बढ़िया जंगह है. ऋषिकेश उत्तराखंड की वादियों में स्थित एक बेहद ही खूबसूरत धार्मिक स्थल है. ऋषिकेश में हर उम्र के लोग घूमने के लिए जाते है. यहां के खूबसूरत प्राचीन, गंगा घाट, खूबसूरत परिदृश्य, आदि ऋषिकेश को पर्यटकों के बीच लोकप्रिय बनाते है. उत्तराखंड में एक बहुत बड़ा रामदेव बाबा का योग पीठ बनने के बाद ऋषिकेश पर्यटन में अचानक से तेजी आई है. ऋषिकेश में हर साल लाखों की तादाद में लोग योग सीखने पहुंचते हैं.

लेकिन अगर आप ऋषिकेश के आस पास भी घूमना चाहते हैं. तो आज हम आपको अपने लेख से ऋषिकेश के पास स्थित कुछ बेहद ही खूबसूरत जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं. जहां से आप लगभग तीन घण्टे की ड्राइव से आसानी से पहुंच सकते है. ऋषिकेश केदारनाथ का ही एक भाग है. भगवन श्री राम के छोटे भाई लक्ष्मण के नाम से प्रसिद्ध एक झूला यही पर स्थित है, जिसे हम लक्ष्मण झूला कहते है. यह पल 450 फिट लम्बा है.

शिवानंद नगर के पास ऐसा ही 450 फिट लम्बा एक और पल बनाया गया है, जिसे राम झूला कहा जाता है. जो की शिवानंद आश्रम और स्वर्गाश्रम से जुड़ा हुआ है. ऋषिकेश से पवित्र गंगा नदी बहती है. जो की हिमालय के शिवालिक पर्वत से निकलती है. यहाँ गंगा नदी के तट पर बहुत से प्राचीन मंदिर भी स्थित है.

ऋषिकेश कैसे पहुंचा जाएं Rishikesh kese pahucha jaye

1. ऋषिकेश जाने के लिए हरिद्वार, देहरादून, दिल्ली से बहुत सी बस चलती है. जिनके माध्यम से आप आसानी से जा सकते है.

2. ऋषिकेश का सबसे नजदीक एयरपोर्ट देहरादून का जॉ ली ग्रेट एयरपोर्ट है. यहाँ से दिल्ली, लखनऊ से डायरेक्ट फ्लाइट मिलती है.

3. ऋषिकेश का सबसे करीबी ट्रैन स्टेशन हरिद्वार है. जहा से देश के हर कोने से ट्रैन जुडी हुई है.

ऋषिकेश के धार्मिक स्थल Rishikesh ke dharmik place

1. भरत मंदिर Bharat temple

ये मंदिर आदि गुरु शंकराचार्य जी ने लगभग 12वी शताब्दी में बनवाया था. भरत मंदिर गंगा नदी के तट पर स्थित है. त्रिपाल के अंदर ही प्रतिमा के ऊपर श्री यंत्र आदि गुरु शंकराचार्य जी द्वारा लगाया गया था.

2. नीलकंठ महादेव मंदिर Neelkhant mahadev temple

ये भगवन शिव का बहुत ही पुराना मंदिर है. जो की ऋषिकेश से लगभग 30 किलोमीटर पर है. ये मंदिर तीन घाटियों से घिरा हुआ है.

3. लक्ष्मण मंदिर Lakshman temple

ये प्रसिद्ध मंदिर गंगा नदी के तट पर स्थित है. मंदिर में मूर्तिकला और उसकी दीवारों में चित्रकारी की गयी है. जिसके लिए ये बहुत ही प्रसिद्ध है.

4. कंजापुरी मंदिर Kanjapuri temple

ये मंदिर कंजापुरी देवी मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है. इस मंदिर के लिए ये कहा जाता है की जब शिव देवी सती का शव ले जा रहे थे, तब देवी सती का धड़ इसी जंगह पर गिर गया था. इसलिए इसे शक्तिपीठ कहा जाता है.

5. वीरभद्र मंदिर Virbhadr temple

ये मंदिर भगवन शिव जी को पूरी तरह से समर्पित है. ये मंदिर कोई 1300 साल पुराना है.

6. रघुनाथ मंदिर Raghunath temple

ये मंदिर श्री राम जी और उनकी पत्नी देवी सीता जी को समर्पित है. ये एक धार्मिक स्थल है.

7. ऋषिकुंड Rishikund

ये कुंड रघुनाथ मंदिर के पास स्थित है. ये एक तालाब के रूप में है.

8. त्रिवेणी घाट Triveni ghat

ये घाट तीन नदियों के संगम से बना है- गंगा , यमुना और सरस्वती. यहाँ पर लोग दूर दूर से स्नान करने के लिए आते है. लोगो का ऐसा मानना है की जो कोई भी इस घाट के जल में स्नान करता है, उसके सभी किये हुए पाप ख़तम हो जाते है. इस घाट पर शाम यानि की संध्या समय पर आरती की जाती है.

9. गीता भवन Geeta bhavan

गीता भवन गंगा नदी के तट पर एक बहुत ही बड़ा भवन है. इसके अंदर बहुत से कमरे और बहुत ही बड़ा हाल है. इसमें रहने के लिए किसी भी भक्त को कोई भी पैसा नहीं देना पड़ता है. बल्कि वो आसानी से इसमें रह सकते है. यहाँ पर समय समय पर सत्संग और ध्यान से सम्बंधित कार्यक्रम होते रहते है.

ऋषिकेश में योग स्थान Rishikesh me yog place

ऋषिकेश में प्रसिद्ध योग स्थान बहुत से है. जो की पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करते है. ऋषिकेश लगभग 133 साल पुराना कैलाश आश्रम ब्रम्हा-विद्यापीठ का घर है.इस स्थान पर स्वामी विवेकानंद , स्वामी रामतीर्थ , स्वामी शिवानंद जी ने ज्ञान अर्जित किया था. यहाँ पर बहुत आश्रम और स्थान है जो की प्रसिद्ध है. वो इस प्रकार से है.

1. मुनि की रेती Muni ki reti

ये एक छोटा सा स्थान है , जो की ऋषिकेश के पास ही स्थित है. मुनि की रेती बहुत से मंदिरो , योग और ध्यान के लिए प्रसिद्ध है. साथ ही ये एक आयुर्वेदिक घर भी है.

2. परमार्थ निकेतन Pramarth niketan

ये भारत का सबसे बड़ा योग का स्थान है. साथ ही सबसे बड़ा आश्रम भी है. जो की गंगा नदी के तट पर स्थित है. ये आश्रम सभी के लिए है और यहाँ पर संध्या की गंगा जी की महाआरती भी बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है.

3. स्वर्गाश्रम Swargasram

ये हिमालय की तलहटी में स्थित है और यह ऋषिकेश के सभी पुराने आश्रमों में से एक है. ये लक्षम झूले के पास स्थित है और यहाँ पर बहुत से ऋषियों के ध्यान लगाने के लिए स्थान भी उपलब्ध है.

4. शिवानंद आश्रम Shivanand aasram

यह स्वामी श्री शिवानंद जी ने स्थापित किया था. ये आश्रम सुंदर जंगल, पर्वत और गंगा नदी से घिरा हुआ है.

5. ओमकारानंद आश्रम Omkaranand aasram

यह हिमालय की तलहटी में स्थित है. ये शिवनन्दनगर और प्रसिद्ध लक्ष्मण झूला के पास है. इसे परमहंस ओमकारानंद सरस्वती जी ने स्थापित किया था.

ऋषिकेश के पास कौंन कौंन सी जंगह देखें Rishikesh ke paas kon kon si place dekhe

1. हरिद्वार Haridwar

हरिद्वार के नाम से तो सभी वाकिफ है, जिसे हम सभी छोटा चारधाम यात्रा का प्रवेश द्वार भी कहते हैं. गंगा तट पर स्थित हरिद्वार, ऋषिकेश से महज एक घंटे की दूरी पर बसा हुआ ,हिंदुयों का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है. इस पावन धरती पर घूमने आने वाले पर्यटक यहां गंगा में डुबकी लगाकर मोक्ष की प्राप्ति करते हैं. हरिद्वार में भक्तों के बीच सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है, हर की पौड़ी पर हर रोज शाम को होने वाली गंगा आरती. यह शहर कई मन्दिरों का घर भी है, जहां कुछ मंदिर गुफानुमा भी बने हुए है, जो देखने में बेहद ही खूबसूरत और आश्चर्यचकित करते हैं.

हरिद्वार कैसे पहुंचे Haridwar kese pahuche

ऋषिकेश हरिद्वार और ऋषिकेश के बीच की दूरी 19.9 किमी है. एनएच 34 राजमार्ग के माध्यम से इसमें लगभग 30-40 मिनट लगते हैं. हर रोज हरिद्वार और ऋषिकेश के बीच नियमित बस सेवा सुचारू है. पर्यटक चाहे तो हरिद्वार से ऋषिकेश ट्रेन के जरिये भी जा सकते हैं.

2. देहरादून Dehradun

अगर आप ऋषिकेश की यात्रा कर रहे हैं, तो आपके घूमने की लिस्ट में देहरादून का नाम अवश्य होना चाहिए. देहरादून सिर्फ दून घाटी से घिरा हुआ शहर ही नहीं है बल्कि उत्तराखंड की राजधानी भी है. इस शहर में पर्यटकों के करने के लिए और घूमने के लिए बहुत कुछ है. पर्यटक देहरादून के पलटन बाजार में शॉपिंग का मजा ले सकते हैं, तो आत्मिक शांति के माइंड्रोलिंग मठ का दौरा भी कर सकते हैं. यह शहर अपने विश्व प्रसिद्ध दून स्कूल के लिए भी जाना जाता है. बताया जाता है कि, बॉलीवुड एक्ट्रेस करीना कपूर ने अपनी पढाई इसी स्कूल से पूरी की है. यहां के खास आकर्षणों में शुमार डाकू की गुफा, एक बेहद सुंदर जगह है, जिसकी यात्रा आपको अवश्य करनी चाहिए. अगर आप वन्य जीवों से प्यार करते हैं, तो राजाजी नेशनल पार्क की ओर रुख कर सकते हैं, जो देहरादून के निकट ही स्थित है.

देहरादून कैसे पहुंचे Dehradun kese pahuche

देहरादून ऋषिकेश और देहरादून के बीच की दूरी 45.1 किमी है. अंबाला – पोंटा साहिब – हरबर्टपुर – देहरादून – ऋषिकेश राष्ट्रीय राजमार्ग के माध्यम से देहरादून पहुंचने में लगभग 1 घंटे 21 मिनट लगते हैं. इन दोनों शहरों के बीच काफी रोडवेज काफी सक्रिय हैं और आप दिन के किसी भी समय हमेशा सार्वजनिक बस पकड़ कर देहरादून जा सकते हैं. यदि आप देहरादून की केवल एक दिन की यात्रा करते हैं तो आप टैक्सी भी किराए पर ले सकते हैं.

3. लैंसडाउन Lancedown

उत्तराखंड कई खूबसूरत हिल स्टेशन का घर है, जिसमे से एक है लैंसडाउन, जिसे औपनिवेशिक शासन के दौरान सैन्य सेना के रूप में स्थापित किया गया था. औपनिवेशिक काल दौरान यह स्वतंत्रता सेनानियों का प्रमुख स्थान था. अंग्रेजों ने इस स्थान को गढवाल राइफल्स प्रक्षिक्षण केंद्र के रुप में विकसित किया. आज यहाँ, भारतीय सेना का गढवाल राइफल्स कमांड आफिस स्थित है. अगर आप धार्मिक है, तो आप यहां युगों पुराने कलेश्वर मंदिर को देख सकते हैं. पहाड़ी के ऊपर से गढ़वाल के खूबसूरत नजारों का मजा लिया जा सकता है, आप चाहें तो आप इन्हें अपने कैमरे में भी कैद कर सकते हैं.

लैंसडाउन कैसे पहुंचे Lancedown kese pahuche

ऋषिकेश और लैंसडाउन के बीच की दूरी 125.8 किमी है. लैंसडाउन तक पहुंचने का सबसे आसान और तेज़ तरीका एनएच 534 और एनएच 34 राजमार्गों है. इन दोनों हाइवे से लैंसडाउन पहुँचने में लगभग 3-5 घंटे लगते हैं. आप चाहें तो सार्वजनिक बस ले सकते हैं या एक टैक्सी (जो एक लोकप्रिय विकल्प है). आपको हरिद्वार या कोटद्वारा से अपनी बस बदलनी पड़ सकती है.

4. धनौल्टी Dhanolti

धनौल्टी उत्तराखंड का एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है, और जो भी ऋषिकेश की यात्रा पर आता है, वह इसे घूमे बिना वापस नहीं जाता है. अपने शांत और सुरम्य वातावरण से परिपूर्ण धनौल्टी देवदार के जंगलों से घिरा है. धनौल्टी कई ट्रेकिंग ट्रेल्स के लिए भी जानी जाती है, जैसे सुरकंडा देवी, चंद्रबाबनी आदि. इसके अलावा पर्यटक यहां कई अन्य एडवेंचर एक्टिविटीज का लुत्फ उठा सकते हैं, जिसमे राफ्टिंग, पैराग्लाइडिंग, माउंटेन बाइकिंग, कैंपिंग आदि शामिल है. कैम्पिंग यहां पर्यटकों की पसंदीदा गतिविधियों में से एक हैं. यहां तापमान बेहद ठंडा रहता है, धनौल्टी की यात्रा के दौरान अपने साथ गर्म कपड़े रखना कतई ना भूले.

धनौल्टी कैसे पहुंचे Dhanolti kese pahuche

ऋषिकेश और धनौल्टी के बीच की दूरी 69.8 किमी है. एनएच 7 राजमार्ग के माध्यम से यहां पहुँचने में करीबन 2-3 घंटे लगते हैं. धनौल्टी पहुँचने के सबसे अच्छा विकल्प है कि आप अपनी टैक्सी को किराए पर लें. चूंकि धनौल्टी एक दूर दराज इलाके में बसा हुआ हिलस्टेशन है, ऐसे में अगर आप बस से यात्रा करते हैं, तो आपको बस दो तीन बार बदलनी होगी .

5. देवप्रयाग Devprayag

देवप्रयाग, उत्तराखण्ड के टिहरी गढवाल जिले का प्रमुख धार्मिक स्थान है. “अलकनंदा” और “भागीरथी” नदियों के संगम पर स्थित, इस शहर को संस्कृत में “पवित्र संगम” के नाम से संबोधित किया गया है. 7 वीं सदी में देवप्रयाग ब्रह्मपुरी, ब्रह्म तीर्थ और श्रीखण्ड नगर जैसे कई अलग अलग नामों से जाना जाता था. “उत्तराखण्ड के रत्न” के रूप में जाना जाता यह शहर प्रसिद्ध हिंदू संत देव शर्मा के नाम पर अंकित है. यहाँ के मुख्य आकर्षणों में संगम के साथ ही एक शिव मंदिर तथा रघुनाथ मंदिर भी सम्मिलित हैं. देश के कोने-कोने से लाखों श्रद्धालु देवप्रयाग में पवित्र संगम में स्नान करने आते हैं. बता दें, ये वही जगह है जहां भागीरथी और अलकनंदा का संगम होता है.

देवप्रयाग कैसे पहुंचे Devprayag kese pahuche

देवप्रयाग और ऋषिकेश के बीच की दूरी 74.2 किमी है. एनएच 7 राजमार्ग से यहां पहुंचने में लगभग 2-3 घंटे लगते हैं.

ऋषिकेश में स्वास्थ्य स्थान Rishikesh me medical place

ऋषिकेश में योग और सांस्कृतिक दवाइयों के मंत्री श्रीपद यस्सों नाइक जी ने 4 जून 2015 में भारत का पहला आयुष स्थान को खोला. उनका भरोसा है की ऋषिकेश में आयुर्वेद , योग, प्राकृतिक , यूनानी, सिद्ध, होमियोपेथी और कई प्रकार की दवाइयों के अनुसन्धान है. यहाँ पर स्वास्थ्य सुरक्षा विधायल भी है. जहा पर चिकित्सा के साथ साथ पढ़ाई भी की जाती है.

ऋषिकेश में एडवेंचर स्पॉट्स Rishikesh me adventure spots

ऋषिकेश में बहुत से एडवेंचर स्पॉट्स है. लेकिन यहाँ का सबसे फेमस है सफेद पानी राफ्टिंग. जो की देश और विदेश दोनों जंगेहो पर प्रसिद्ध है. यहाँ पर राफ्टिंग करने का मौसम मार्च में शुरू होता है और सितंबर तक चलता है. यहाँ पर और भी स्थान है जैसे की हाईकिंग , केकिंग, बैकपेकिंग आदि.

तो दोस्तों यदि आप ऋषिकेश घूमने जाना चाहते है, तो आपको ये जानकारी बहुत फायदा पहुचायेगी. अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो हमारी पोस्ट को लाइक और शेयर करना ना भूले. धन्यवाद्

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!